State

पहले शराब पिलायी, फिर सेनेटाइजर डालकर जला दिया

  • पत्रकार राकेश निर्भीक कांड का खुलासा
  • प्रधान के बेटे ने की थी हत्या, गिरफ्तार

नया लुक ब्यूरो

लखनऊ। पत्रकार राकेश निर्भीक अपने ग्राम प्रधान के भ्रष्टाचार को उजागर करने में लगे हुए थे। इस बात को लेकर ग्राम प्रधान का परिवार कई दिनों से पत्रकार से मामले को रफा-दफा करने को कह रहे थे। जब पत्रकार ने ऐसा करने से मना कर दिया तो प्रधान के बेटे ने साथियों के साथ मिलकर उन्हें जिंदा जला दिया। पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा करते हुए गोंडा रोड स्थित बहादुरापुर रेलवे क्रॉसिंग के आगे जंगल के पास से सोमवार को गिरफ्तार कर लिया है।

घटना में तीन अन्य लोग भी शामिल हैं। सोमवार को पत्रकार व उसके साथी को जिंदा जलाकर मारने की घटना का खुलासा करते हुए एसपी देवरंजन वर्मा ने बताया कि कलवारी निवासी पत्रकार राकेश सिंह निर्भीक तथा विशुनीपुर निवासी हिन्दूवादी नेता पिंटू साहू मित्र थे। राकेश निर्भीक अपने ग्राम प्रधान के भ्रष्टाचार को उजागर करना चाहते थे इसी बात को लेकर ग्राम प्रधान के परिजन उनसे लगातार संपर्क कर रहे थे।

पिंटू साहू ने बीते दिनों ग्राम विशुनीपुर निकट चीनी मिल गेट निवासी ललित मिश्रा को चार पहिया गाड़ी बेची थी। अभी करीब 2.5 लाख रुपया बकाया था। घटना वाले दिन इसी बात को लेकर पिंटू साहू तथा ललित की बीयर की दुकान पर झगड़ा हुआ था। इसी से नाराज ललित ने गांव के अकरम अली से मिलकर पिंटू को ठिकाने लगाने की योजना बनाई। धर कलवारी की महिला ग्राम प्रधान के बेटे केशवानंद मिश्रा उर्फ रिंकू मिश्रा भी गत शुक्रवार को पत्रकार राकेश से मामला रफा दफा करने के लिए फोन कर रहे थे।

रिंकू ने उस दिन राकेश को 27 बार फोन किया तथा पांच बार बात भी हुई। ललित मिश्रा, अकरम अली भी रिंकू के संपर्क में आ गए। इन लोगों को पता चला कि राकेश साथी पिंटू साहू के साथ अपने घर पर है। रिंकू अपने कुछ साथियों के साथ राकेश के घर पहुंचे और राकेश से बातचीत शुरू कर दी। इसी बीच इन लोगों ने राकेश व पिंटू को खूब शराब पिलाई। राकेश और पिंटू अत्यधिक नशे में हो गए। एसपी ने बताया कि इसी बीच रिंकू ने मौके पर ललित व अकरम को भी बुला लिया। अकरम पुराना हिस्ट्रीशीटर तथा आग लगाने की तकनीक में माहिर है।

इन लोगों ने कमरे में अलग-अलग बेड पर सो रहे पिंटू व राकेश के ऊपर एल्कोहल बेस्ड सैनिटाइजर डालकर आग लगा दी। अत्यधिक ज्वलनशील पदार्थ होने के कारण दोनों जल्द ही भीषण आग की चपेट में आ गए। आरोपी कमरे के दरवाजे में बाहर से ताला बंद कर फरार हो  जिस कमरे में पत्रकार व उसके साथ को जिंदा जलाकर मारा गया। उस कमरे की दीवार विस्फोट से नहीं बल्कि बचने के लिए तेज धक्का देने की वजह से क्षतिग्रस्त हुई। दीवार कमजोर थी इसीलिए धक्का देने के बाद वह बाहर की तरफ गिरी और गंभीर रूप से जले राकेश बाहर निकले। इन लोगों ने यह भी बताया कि एल्कोहल बेस्ड सैनिटाइजर का इस्तेमाल कर जलाकर हत्या की है।

 

Related Articles

Back to top button
Live Updates COVID-19 CASES