National

पुलिस ने जिसका पंचनामा भरकर हत्या के जुर्म में दो भाइयों को जेल भेजा वह जिंदा लौट आया

जयपुर। पुलिस जो भी कर दे कम ही है। गुजरात की पुलिस ने एक व्यक्ति की हत्या के आरोप में दो भाइयों को जेल भेज दिया। इस घटना के 2 माह बाद जब वह घर लौटा तो हड़कम्प मच गया। यही नहीं उसकी जिस पत्नी के आरोप पर पुलिस ने हत्या का केस दर्ज कर आनन फानन में यह कार्रवाई की उस महिला ने दूसरी शादी भी कर ली।

यह मामला राजस्थान के डूंगरपुर जिले का है। दरसअल यहां के धम्बोला थाना इलाके के खेरपेड़ा गांव के रहने वाले ईश्वर दिसंबर, 2019 में मजदूरी के लिए गुजरात के जूनागढ़ में गए थे। पिछले कई महीनों से ईश्वर अपने परिवार के संपर्क में नहीं थे। परिवार को किसी अनहोनी की आशंका हो गई थी। परिजनों ने इस मामले में गुजरात पुलिस से इस संबंध में संपर्क भी किया था।

‘News 18’ की रिपोर्ट के मुताबिक गुजरात पुलिस ने एक युवक का शव परिजनों को सौंपा और इस शव को ईश्वर का शव बताया था। परिजनों ने ईश्वर को मरा समझ उनका अंतिम संस्कार भी कर दिया। इधर ईश्वर की पत्नी ने अपने जेठ और देवर पर पति की हत्या का आरोप लगा दिया। ईश्वर की मौत का आऱोप लगने के बाद पुलिस ने उनके 2 भाइयों को गिरफ्तार कर जेल भी भेज दिया।

लेकिन इस पूरे मामले में ट्विस्ट अब आया है। दरअसल करीब 6 महीने बाद अब ईश्वर अपने घर लौट आए हैं। ईश्वर के सकुशल वापस आने के बाद उनके परिजन हैरत में हैं। ईश्वर ने अपने परिजनों को बताया है कि कोरोना की वजह से हुए लॉकडाउन में वो फंस गए थे इसी वजह से वो घर वापस नहीं आ सके। उन्होंने बताया कि मोबाइल न होने और घरवालों का नंबर याद नहीं होने के कारण वो किसी से भी संपर्क नहीं कर पाए थे।

ईश्वर के घर वापस आने के बाद अब इस बात का पता चला है कि उनकी पत्नी ने दूसरी शादी भी रचा ली है। अब ऐसी आशंका जताई जा रही है कि उनकी पत्नी ने किसी साजिश के तहत परिवार वालों को फंसाया है। इस मामले में गुजरात पुलिस की लापरवाही भी सामने आई है।
बताया जा रहा है कि गुजरात के इसरी थाना क्षेत्र के मोरीगांव के पास 6 फरवरी, 2020 को जंगल में एक युवक का शव मिला था। शव पुराना होने की वजह से पुलिस ने बिना इसकी जांच-पड़ताल कराए इसे ईश्वर की लाश समझ कर परिजनों को जबरन सौंप दिया।

हालांकि ईश्वर के परिजनों को यह यकीन था कि ईश्वर की मौत नहीं हुई है लिहाजा उन्होंने शव को जलाने के बजाए उसे दफना दिया था ताकि वक्त आने सबूत दिखाया जा सके। इस पूरे मामले में यह कहा जा रहा है कि ईश्वर की पत्नी, उनके साले, ससुर तथा कुछ पुलिसवालों की मदद से एक गहरी साजिश रच कर ईश्वर के भाइयों को फंसाया गया और उन्हें जेल भिजवा दिया गया। ईश्वर के परिजनों ने अब गुजरात पुलिस और ईश्वर के ससुराल पक्ष पर षड्यंत्र रचने का आरोप लगाते हुए गुजरात और राजस्थान के गृह विभाग तथा मानवाधिकार आयोग से उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग की है।

Related Articles

Back to top button
Live Updates COVID-19 CASES