International

क्या है क्वारंटाइन? कहां से हुआ शुरू? क्या सच में है कोरोना वायरस से लड़ने में कारगर? आइये जानें…

क्वारंटाइन शब्द लैटिन भषा के क्वाडरजिंटा और इटली भाषा के क्वारन्टा शब्द से मिलकर बना है। इसका मतलब होता है ’40’


नया लुक डेस्क।
आज विदेशों के साथ अपना देश भी कोरोना कहर से लड़ रहा है। ऐसे में पूरे देश में पहले लॉकडाउन और फिर पलायन करने वालों के दूसरी जगह जाने पर रोक लगा दी जाती है। तब शुरू होती है उनको क्वारंटाइन करना। अभी भी बहुत से लोग हैं जो इस शब्द से वाकिफ तो हो चुके हैं लेकिन उसका मतलब नहीं समझते हैं। आइये हम परिचय कराते हैं आपका क्वारंटाइन शब्द के अर्थ से।

क्वेरेंटीनो से बदलकर हो गया क्वारंटाइन

यूरोप में 14वीं शताब्दी में प्लेग नाम की बीमारी तेजी से फैली थी। तब वहां की एक तिहाई जनसांखया इसकी चपेट में आ चुकी थी। ऐसे में वहां के अधिकारियों ने पहले वहां के समुद्री रास्ते से आने वाले जहाजों को 30 दिन आइसोलेशन यानी एकान्त में बाकी सबसे अलग रखा। धीरे—धीरे इसे वहां के कई शहरों ने अपनाना शुरू कर दिया। 14वीं शताबदी के अंत में इसकी अवधि 30 दिन से बढा कर 40 दिन कर दी गयी। बाद में इसे क्वेरेंटीनो नाम दिया गया। जिसे क्वारंटाइन नाम में बदल दिया गया।

जीसस भी रहे थे 40 दिन के एकांतवास में

बाइबल में भी प्लेग रोग और कुष्ठ रोगियों को एकान्त में हॉस्पिटल बना कर रखने का उल्लेख है। 40 दिन का एक विशेष महतव भी है। कहा जाता है कि जीसस ने भी 40 दिन का एकान्त वास लिया था। 1821 में क्वेरेंटीन को पूरी तरह से सास्विकृतिय पास किया गया था। वहीं 1814 में पीले बुखार के कारण इस कानून को लागू भी किया गया था।

Related Articles

Back to top button
Live Updates COVID-19 CASES