एक ही पैन कार्ड पर 11 शिक्षक उठा रहे वेतन, जाँच मे खुला राज

अभिषेक उपाध्याय

जौनपुर। बेसिक शिक्षा विभाग में रोज फर्जीवाड़े से जुड़े नए नए मामले सामने आ रहे है। जिसके बाद यही आस लगाई जा रही है कि इस विभाग मे व्याप्त भ्रष्टाचार का कोई ओर छोर नही है। लोगो के जीवन को नई दिशा देने वाले शिक्षक ही जब समाज के दुश्मन बने बैठे है तो भला इस समाज का क्या होने वाला है आप इसका अंदाजा स्वयं लगा सकते है? फिलहाल अब सरकार ने इनको सही रास्ते पर लाने के लिए कमर कस ली है, यदि जाँच अधिकारियो की मेहरबानी रही तो समय रहते ही काफी कचड़ा साफ़ हो जायेगा। जैसे-जैसे जाँच आगे बढ़ रही है वैसे वैसे भ्रष्टाचारियों की कलई खुलती जा रही है। इस बार जिले में ऐसे 11 शिक्षक मिले हैं, जिनके वेतन भुगतान के लिए एक ही पैन कार्ड का इस्तेमाल किया जा रहा है।

इस बारे मे इस मामले से संबंधित शिक्षकों की जांच कर खंड शिक्षा अधिकारियों से आख्या मांगी गई है। साथ ही उन सभी शिक्षकों को अपने अभिलेखों के साथ बीएसए कार्यालय में भी तलब किया गया है। इस मामले की जांच वित्त एवं लेखाधिकारी नंद कुमार कुरील को सौंपी गई है। आपको बता दे कि प्रदेश भर के बेसिक शिक्षकों की चल रही जांच के लिए वित्त नियंत्रक बेसिक शिक्षा प्रयागराज ने शिक्षकों को मई महीने के वेतन भुगतान की पूरी रिपोर्ट 21 जून को शासन को सौंपी थी। इस दौरान जांच में पता चला कि प्रदेश भर में एक ही पैनकार्ड पर 192 शिक्षक वेतन ले रहे है। जिसमें जनपद जौनपुर के 11 शिक्षक शामिल हैं। इस मामले मे अपर मुख्य सचिव बेसिक शिक्षा रेणुका कुमार ने बीएसए को ऐसे शिक्षकों के वेतन संबंधित अभिलेखों की जांच करने का निर्देश दिया था। शासन द्वारा लगभग पांच दिन पहले प्राप्त हुए इस पत्र के बाद जिले में जांच भी शुरू कर दी है।

इस मामले की जाँच विभाग के वित्त एवं लेखाधिकारी नंद कुमार कुरील को सौंपी गई है। बीएसए ने खंड शिक्षा अधिकारियों को भी निर्देश दिए हैं कि वे ऐसे शिक्षकों के सभी अंकपत्र, प्रमाणपत्र, आधार कार्ड, पैन कार्ड, जाति और निवास प्रमाणपत्र आदि दस्तावेजों की जांच कर आख्या दें इसके अलावा संबंधित शिक्षकों को कार्यालय बुलाकर भी जांच की जाएगी। बीएसए प्रवीण कुमार त्रिपाठी ने बताया कि एक ही पैन कार्ड पर एक से अधिक शिक्षकों के वेतन भुगतान से संबंधित जिले में 11 मामले सामने आए हैं। वित्त एवं लेखाधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं। जांच के बाद संबधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।