बैंको के हड़ताल से उपभोक्ता हलकान

  • बैंको का कारोबार भी प्रभावित
  • बैंको ने दो दिन घोषित किया हड़ताल
  • आज भी बंद रहेंगे बैंक

अरुण वर्मा
नया लुक, महाराजगंज। बैंको के दो दिनों के हड़ताल से आमजनता परेशान है वही किसानों के चेहरों पर खेती को लेकर वेदना। वही व्यापारियों को परेशानी उठानी पड़ी, तमाम चेक, ड्राफ्ट क्लियरेंस में फंस गए वही लेन-देने बन्द पड़ी है पार्टियों को पैसा भेजना व पार्टियों से माल की आपूर्ति पाना मुश्किल सा हो गया है। यह घोषित हड़ताल बृहस्पतिवार तक चलेगी। इससे अबतक बैंकों का करीब 23 करोड़ का टर्नओवर ठप रहा। वेतन वृद्घि में विसंगति समेत अन्य मांगों को लेकर बैंककर्मी आंदोलन की राह पर हैं। बैंककर्मियों की हड़ताल से आम लोगों को भी परेशानी उठानी पड़ी। बैंक से धन निकासी व अन्य बैंकिग कार्य सहित एटीएम भी नोट नहीं उगल रहे है। जरूरी कार्यों के लिए लोगों को उधारी से काम चलाना पड़ रहा है। व्यापारियों को कारोबार में भुगतान को लेकर समस्या हो रही है।
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंकिंग यूनियन व इंडियन बैंक एसोसिएशन के बीच समझौता हुआ था। एक नवंबर-2017 को इंडियन बैंक एसोसिएशन ने दो प्रतिशत वेतन बढ़ोतरी का अनुरोध किया, लेकिन कोई कदम नहीं उठाया गया। इसी के विरोध में 30 और 31 मई को बैंककर्मी हड़ताल पर हैं। बैंककर्मियों की हड़ताल का सीधा असर कारोबार और आम लोगों पर पड़ रहा है। स्टेट बैंक, ओरियंटल बैंक ऑफ कॉर्मस, बैंक ऑफ बडौदा, पंजाब नेशनल बैंक, इलाहाबाद बैंक, सिंडीकेट बैंक समेत तमाम बैंकों के कर्मचारी हड़ताल पर रहे। लीड बैंक भारतीय स्टेट बैंक के मैनेजर एसके श्रीवास्तव ने कहा कि बहड़ताल से समस्या बढ़ी है। करीब 23 करोड़ रुपये का कारोबार प्रभावित हुआ है। हड़ताल का ज्यादा असर कारोबारियों एवं आम लोगों पर पड़ा है।

Covid19 World