…तब स्वैग से करेंगे डांडिया नाइट

अल्पना त्रिपाठी

लखनऊ। शारदीय नवरात्र और डांडिया-गरबा। दोनों का ही इंतजार लोगों को बेसब्री से रहता है। अब लखनऊ की गलियों में गुजरात और राजस्थान की तरह ही डांडिया-गरबा की धूम रहती है। ऐसे में डांडिया-गरबा डांस के लिए कलरफुल ड्रेसेस से लेकर डंडिया स्टिक, जूलरी की काफी डिमांड रहती है। पर अगर इस नवरात्र आप अपने को ट्रेडिशनल वियर से जुड़े रहकर भीड़ से अलग दिखना चाहती हैं तो हम आपको बताते हैं आप अपने को किस तरह लुक दे सकते हैं।

एक रंग और एक डिजाइन में रंगे साथी

हर बार नवरात्र पर कुछ न कुछ नया फैशन आता है पर गुजरात और राजस्थान की ट्रेडिशनल गरबा ड्रेस का कोई मुकाबला नहीं। इन ट्रेडिशनल वियर में इस बार कपल्स के लिए मार्केट में कुछ खास है। गुजराती और राजस्थानी वर्क के साथ दरदोजी और शीशे के महीन वर्क को कई फ्लोर में पिरोया गया है। इन वर्क को एक जैसा ही एक रंग में लड़को के अंगरखे और लड़कियों के लहंगे में बनाया गया है। खूबसूरती के निखार को बढ़ाने वाला ये काम नेट के कपड़े पर भी मिलेगा। आपको ये ड्रेस मार्केट में 1500 से लेकर 3000 तक में आसानी से मिल जाएंगी।

गर्ल्स में पगड़ी देंगी डिफरेंट लुक

अभी तक लड़कियां अपनी शादी के आखिरी फेरे पर पगड़ी पहनती थी। पर लड़कियों में पगड़ी लुक का क्रेज अब सर चढ़ बोलने लगा है। अमीनाबाद रोड़ स्तिथ शुभम लहंगा सेंटर के मनीष गुप्ता बताते हैं कि लड़कियों के इसी फैशन को देखते हुए हमने इस बार उनके लिए तीन अलग साइज में लगभग 10 डिजाइन्स की पगडिय़ां तैयार करवाई हैं। इन गुजराती टच की पगडिय़ों को लड़कियां अपने हाई डेकोरेटेड लहंगे या कुर्ते पर मैच करा सकती हैं। इसमें लेस और गोटों के साथ प्रिंटेड और प्लेन दोनों कपड़ो पर वर्क वाली पगडिय़ां आपको भीड़ में अलग ही लुक देंगी।

लाइट वेट की सिल्वर जूलरी से खुद को दिखाएं डिफरेंट

ट्रडिशनल वियर में जूलरी का अपना महत्व है। बात जब डांडिया-गरबा में अलग दिखने की हो तो जरूरी है आप जूलरी को सोच समझ कर लें। वैसे तो मोती, लाख, चीड़, कुंदन में अलग अलग वराइटी ट्रेडिशनल वियर के साथ के लिए हैं। इस बार आप लाइट वेट की सिल्वर जूलरी को अपने ड्रेस के साथ ट्राई करें। मार्किट में आपको सिल्वर में स्टाइलिश और डिफरेंट जूलरी देखने को मिलेंगी। जो आपको औरों से अलग दिखाने के साथ राजस्थानी लुक के करीब लाएगी। इनमें कमरबंद, गले का सेट, झुमकी के साथ लाइट वेट की हाईली डेकोरेटेड माँगबेन्दी भी शामिल हैं। ये आपको फतेहगंज की मार्केट में 650 की रेंज तक मिल जाएंगी।

डिफरेंट डांडिया लगाएगी लुक में तड़का

डांडिया गरबा नाइट में जाना है। आप पूरे ट्रेडिशनल अवतार में खूबसूरत नक्काशी डांडिया स्टिक के साथ हैं तो आपकी टक्कर का दूसरा कोई नहीं। इसलिए अपनी ड्रेस से मैचिंग की डांडिया साथ लेना बिल्कुल न भूलें। मार्केट में कई तरह के डांडियां एवलेबल हैं जो आपके लुक में तड़का लगाने का काम करेंगी। इसके अलावा बूटी के कपड़े से सजी और बंधेज के काम के साथ नक्काशीदार डांडिया मार्केट में मिलेंगी।

सदाबहार कलरफुल डांडिया

हैंड क्राफ्ट आटिज़्स्ट ईला शुल्का बताती हैं कि लोगों में कलर से सजी डांडिया स्टिक सबसे ज्यादा डिमांड में रहती हैं। मैंने इस बार अवधी, गुजरात और राजस्थान की आर्ट को रंगों में पिरोकर डांडिया की स्टिक को नया रूप दिया है। इसके अलावा मैंने कलरफुल टेप, लैस, कागज और लडिय़ों से भी डांडिया स्टिक को सजाया है। ये डांडिया मार्केट में 50 से 150 रुपये में आसानी से उपलब्ध हैं।

बंधेज के काम के साथ नक्काशीदार खूबसूरत डांडिया

अमीनाबाद रोड़ स्थित शिवम लहंगा सेंटर के महेश और मनीष गुप्ता बताते हैं कि बंधेज के काम के साथ साथ छोटे शीशे और लैस से सजी डांडिया इस बार लोगों को अपनी ओर सबसे ज्यादा खींच रही हैं। इसमें पांच से छह तरह की डिफरेंट डिजाइन हमारे पास हैं। अभी तक 1000 से ज्यादा इसके सेट लोग ले जा चुके हैं। ये 60 से 140 की रेंज में हमारे पास हैं।

शीशे और अलमुनियम में भी हैं डिजाइनर डांडिया

डांडिया गरबा के साथ माहौल को भी उसी रंग में रंगने के लिए डेकोरेशन में भी लोग डांडिया का इस्तेमाल कर रहे हैं। शिवम लहंगा सेंटर के महेश गुप्ता बताते हैं वैसे तो लोग लकड़ी की डांडिया से ही डांडिया गरबा करते हैं। जब बात डेकोरेशन की होती है तो लोगों में अलग तरह की डांडिया का ही क्रेज होता। इसके लिए हम इस बार अलग डिजाइन में शीशे और एलुमिनियम की डांडिया लाए हैं। ये 120 से 200 की रेंज में हैं। अभी तक इसके 400 से ज्यादा पेयर लोग ले जा चुके हैं।

चांदी की खूबसूरत डांडिया

चौक स्थित विनोद ज्वेलर्स के विनोद माहेश्वरी बताते हैं कि इस बार उन्होंने बड़ों के साथ छोटों के लिए भी चांदी वर्क की डांडिया बनाई हैं।
ये तीन साइज में उपलब्ध हैं। इसका निचला हिस्सा प्लेन और उप्पर के हिस्से में खूबसूरत नक्काशी की है। इसके अलावा इसे और खूबसूरत बनाने के लिए मोतियों की लड़ी भी लगाई है। इनमें सात इंच वाली डांडिया 1400, नौ इंच वाली 1800 और 10 इंच वाली डांडिया 2000 की रेंज में है।