हत्या ,आत्महत्या , या अनहोनी ,मे उलद्मा है मामला कश्मीर के जवान की गोली लगने से मौत खुफिया विभाग ने की शुरू

रिपोर्टर रतन गुप्ता
सोनौली /नेपाल:इंडो-नेपाल बार्डर की सुरक्षा में तैनात जम्मू कश्मीर के संतरी जवान बशर हुसैन की गोली लगने से शनिवार की रात 11 बजे मौत हो गई। वह एसएसबी 66वीं वाहिनी बार्डर आउट पोस्ट(बीओपी) कैम्प हरदीडाली में तैनात था।
शनिवार को वह बीओपी के गेट पर एलएनजी रायफल गन के साथ पहरा दे रहा था। अचानक गोली चलने की आवाज से बीओपी कैम्प में अफरा-तफरी मच गई। अफसर व जवान गेट पर पहुंचे। वहां पहरेदारी कर रहा संतरी बशर हुसैन का खून से लथपथ शव पड़ा था। जवान के सीने में गोली लगी थी। घटना के 12 घंटा बाद मजिस्ट्रेट के पहुंचने के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा गया।
गोली चलने की घटना को लेकर एसएसबी अफसर कुछ भी बोलने से परहेज कर रहे हैं। लेकिन पास में ही रायफल के बुलेट का खोखा बरामद होने के बाद इस बात का अंदेशा जताया जा रहा है कि बशर हुसैन के रायफल से गोली चलने से मौत हुई होगी। सीओ नौतनवा राजू कुमार साव ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। मामले की जांच की जा रही है। जांच पूरी होने के बाद ही स्पष्ट रूप से बताया जा सकता है कि मौत की वजह आत्महत्या है या फिर किसी अन्य वजह से गोली चलने से मौत हुई है।

एसएसबी कैम्प के गेट पर पहरा दे रहा था बशर
मूलत: जम्मू कश्मीर का रहने वाला बशर हुसैन एसएसबी की 66वीं वाहिनी में तैनात था। भारत-नेपाल की सीमा पर हरदीडाली बीओपी के गेट पर शनिवार की रात में वह पहरा दे रहा था। रात 11 बजे अचानक गोली की आवाज से बीओपी में हड़कम्प मच गया। सभी सतर्क हो गए। गेट पर पहुंचने के बाद जवानों ने देखा कि बशर हुसैन का खून से लथपथ शव पड़ा है।

घटना स्थल से बरामद हुआ बुलेट का खोखा
बीओपी कैम्प में गोली से जवान की मौत के बाद एसएसबी के अफसर मौके पर पहुंच गए। छानबीन शुरू हो गई। हेडक्वार्टर को घटना की सूचना दी गई। सीओ नौतनवा राजू कुमार साव व सोनौली कोतवाल विजयराज सिंह भी बीओपी पहुंचे। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजने से पहले मजिस्ट्रेट को बुलाया गया। सभी औपचारिकता पूरी करने में 12 घंटे बीत गया। उसके बाद रविवार को दोपहर बाद एसएसबी जवान के शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा गया।

मेडिकल बोर्ड की निगरानी में हुआ शव का पोस्टमार्टम
इंडो-नेपाल बार्डर के हरदीडाली एसएसबी बीओपी कैम्प के गेट पर तैनात जम्मू कश्मीर के एसएसबी जवान की संदिग्ध परिस्थिति में गोली लगने से मौत को लेकर तरह-तरह की चर्चाएं हो रही हैं। प्रारम्भिक जांच में जवान के शव के पास से जो बुलेट का खोखा बरामद हुआ है वह खोखा एसएसबी के जवान के रायफल का ही बताया जाता है। प्रारम्भिक जांच के बाद मजिस्ट्रेट की निगरानी में शव को पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा गया। एसएसबी कमांडेंट की ओर से पत्र दिए जाने के बाद डीएम डॉ उज्ज्वल कुमार की अनुमति के बाद पोस्टमार्टम के लिए सीएमओ डॉ क्षमा शंकर पांडेय ने दो डॉक्टरों का पैनल गठित किया। चौकस निगरानी में जवान के शव का पोस्टमार्टम हुआ।

शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। अभी तक जो तथ्य सामने आए हैं, उससे कहा जा सकता है कि उसने अपनी राइफल से गोली चलाई है। गोली उसके सीने में लगी है और वह मौके पर उसकी मृत्य हो गई।
राजू कुमार साव-सीओ नौतनवा