बंदर पकड़ने आगे नहीं आया वन विभाग, गुस्‍साए लोगों ने जाम की सड़क

रिपोर्ट- रतन गुप्ता

महराजगंज।  सोनौली के महराजगंज में बंदर के आतंक से तीन दिनों से परेशान ग्रामीणों की सुनवाई वन विभाग के जिम्मेदारों ने नहीं की तो लोगों का गुस्सा बुधवार की सुबह फूट पड़ा। सदर कोतवाली के कांध गांव के नाराज लोगों ने रामनगर चौराहे पर फरेंदा-महराजगंज सड़क पर करीब तीन घंटे तक जाम लगाए रखा। दोनों तरफ से वाहनों की कतार लग गई थी। एसडीएम व सीओ ने लोगों को समझाने की काफी कोशिश की। लेकिन जब मौके पर पहुंचकर डीएफओ ने कार्रवाई का भरोसा दिया, तब जाकर लोगों ने जाम समाप्त किया।

कांध गांव में तीन दिनों से बंदर का आतंक है। लोगों के अनुसार अब तक इस बंदर ने 15 लोगों को काटकर जख्मी कर दिया है। दो दिनों से लोग इस बंदर को पकड़वाने के लिए वन विभाग के जिम्मेदारों से गुहार लगा रहे थे। लेकिन आरोप है कि बंदर को पकड़वाने के लिए 10 हजार का खर्च बताकर उसे जमा कराने को कहा गया। इससे लोगों में आक्रोश पनप ही रहा था कि इस कटखने बंदर ने बुधवार की सुबह एक-एक करके गांव के तीन लोगों को काटकर जख्मी कर दिया।

इससे लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और लामबंद लोग सड़क पर उतर गए। लोगों ने रामनगर चौराहे पर सुबह सात बजे ही जाम लगा दिया। सड़क पर बांस-बल्ली रखकर नारेबाजी करने लगे। कुछ ही देर में दोनों तरफ वाहनों की कतार लग गई। एसडीएम व सीओ ने जाम समाप्त कराने की कोशिश शुरू की। इसी बीच पूर्व ब्लाक प्रमुख राजेन्द्र चौधरी भी पहुंचकर लोगों को समझाना शुरू किया। डीएफओ ने आश्वस्त किया कि शीघ्र ही कटखने बंदर के आतंक से निजात दिला दी जाएगी। इसके बाद साढ़े दस बजे के करीब लोगों ने जाम समाप्त किया।

बंदर ने इन लोगों को बनाया है अपना शिकार

कांध गांव के 15 लोगों को बंदर ने काटकर घायल किया है। घायलों में शिवनाथ, विनोद, रामबरन, तीजू, नागेन्द्र, जनार्दन गुप्ता, सुखराम, रामलाल, अनिल सिंह, पौहारी सिंह, लाली, रोहित साहनी व शिवनाथ शामिल हैं।