32 बोर के असलहे से राजेश की गई थी जान

  • पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ राजफाश
  • मॉलकर्मी पुलिस को करते रहे गुमराह
  • पुलिस को घटना के पीछे गहरी साजिश की आशंका

ए.अहमद सौदागर
नया लुक, लखनऊ। गोमतीनगर के नवाबपुरवा निवासी 50 वर्षीय ढाबा कर्मचारी राजेश कुमार सोनी को लगी और लोहिया जाते-जाते दम भी तोड़ दिया। इस घटना की सूचना पाकर सीओ गोमतीनगर दीपक कुमार सिंह के अलावा अन्य पुलिस अफसर मौके पर पहुंचे। छानबीन के दौरान पुलिस को जानकारी मिली कि गोली फैमिली बाजार से चली। इस पर सीओ दीपक कुमार मॉल के भीतर दाखिल हुए और गहन पड़ताल शुरू कर वहां पर लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगालने के साथ वहां पर काम करने वाले कर्मचारियों से पूछताछ की तो पता चला कि बंदर भगाने के लिए एयरगन का इस्तेमाल किया गया,जिससे छर्रा जाकर राजेश की कमर के पास धंस गया।
पुलिस ने एयरगन सहित सुपरवाइजर राजेश कुमार उर्फ छोटू को हिरासत में लेकर पूछताछ की तो वह बस एक ही रट लागाए था कि एयरगन से गोली लगी है और यह भी बताया कि एयरगन से गोली किसने चलाया यह भी नहीं मालूम है। फिलहाल हत्यारोपित राजेश कुमार उर्फ छोटू पुलिस को गुमराह करता रहा कि दूसरे दिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट सच सामने आया कि ढाबाकर्मी राजेश सोनी को एयरगन से नहीं बल्कि 32 बोर के असलहे से गोली मारी गई थी।
पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस भी हैरान है। अब यह पता लगाया जा रहा है कि वह कौन श स है,जिसके असलहे से गोली मारी गई थी। फिलहाल एयरगन से हुई हत्या की कहानी झूठी साबित होते देख पुलिस ऐसे ही कई सवालों का जवाब तलाशने में जुट गई है। पुलिस जल्द ही खुलासा कर सकती है। सनद रहे कि गोमतीनगर रेलवे स्टेशन से कुछ दूरी पर फैमिली बाजार के पास फुटपाथ पर आन्टी ढाबे पर काम करने वाले नवाबपुरवा निवासी राजेश कुमार सोनी की रविवार को गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। गोली फैमिली बाजार के भीतर से चली थी,लेकिन फैमिली बाजार में काम करने वाले मैनेजर से लेकर अन्य कर्मचारी पुलिस को गुमराह करते रहे कि बंदर को भगाने के लिए यहां से एयरगन से गोली चली थी। पुलिस ने करीब एक घंटे तक सीसीटीवी कैमरे की फुटेज खंगालती रही, लेकिन वह फुटेज सामने नहीं आया कि जिस समय राजेश सोनी के सीने में गोली दागी गई थी। पुलिस ने राजेश सोनी की पत्नी अर्चना की तहरीर पर हत्या की रिपोर्ट दर्ज कर मॉल में काम करने वाले सुपरवाइजर राजेश कुमार उर्फ छोटू को एयरगन सहित हिरासत में लेकर पूछताछ की लेकिन वह पुलिस को गुमराह करता रहा कि गोली एयरगन से ही चली थी।
पुलिस पूछताछ कर रही थी कि दूसरे दिन पोस्टमार्टम रिपोट आने के बाद सच सामने आ गया कि राजेश सोनी को गोली एयरगन से नहीं बल्कि 32 बोर के असलहे से गोली मारकर हत्या की गई थी। सीओ गोमतीनगर दीपक कुमार सिंह ने बताया कि इस मामले में गहन पड़ताल कर उस श स का पता सरगर्मी से लगाया जा रहा,जिसके असलहे गोली मारी गई थी। वहीं फैमिली बाजार का मालिक बस्ती निवासी फरार है।

रहस्य का कोहरा: राजेश सोनी हत्याकांड में कई अनसुलझे सवाल
गोमतीनगर के नवाबपुरवा निवासी ढाबाकर्मी राजेश सोनी की हत्या फिलहाल रहस्य के कोहरे में है और कई ऐसे अनसुलझे सवाल हैं,जिन पर पुलिस जवाब देने के हालत में नहीं है। राजेश सोनी की हत्या का राजफाश तो पोस्टमार्टम में तो हो गया,लेकिन उसे कौन गोली मारी? क्यों फैमिली बाजारकर्मी घटना को छुपाने में जुटे थे? वह कौन व्यक्ति है,जिसके जलजला से हर कर्मचारी अपनी जुबान ताला लगा रखा है? इन अनसुलझे सवालों के जवाब में सीओ गोमतीनगर दीपक कुमार सिंह का जवाब सिर्फ इतना भर है कि गहन पड़ताल कर उस श स पहुंचने की कोशिश की जा रही है और उ मीद है कि राजेश की गोली मारकर हत्या करने वाला जल्द ही सलाखों के पीछे होगा।