भारत का विश्वकप सफर आज से, जीत के नायक बनेंगे ये खिलाड़ी

  • इंग्लैंड और बांग्लादेश से हार के बाद जीतने का प्रयास करेगी अफ्रीका
  • पूर्व कैप्टन कूल धोनी के साथ विराट जीत का प्रयास शुरू करेंगे कोहली
  • नम्बर चार की समस्या के बीच अफ्रीका पर भारी दिख रही है टीम इंडिया

सत्येंद्र शुक्ल ‘दीपक’/अनमोल रत्न शुक्ल

लखनऊ। आज ईद के मुबारक मौके पर भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच विश्वकप का पहला मैच खेला जाएगा। भारतीय टीम आज से विश्वकप के सफर की शुरुआत करेगी। कैप्टन कूल धोनी की अगुवाई में वर्ल्ड कप  जीत चुकी टीम इंडिया विराट कोहली के नेतृत्व में यह कप हर हाल में हथियाना चाहेगी। क्रिकेट की दुनिया के एक बड़े महान खिलाड़ी विवियन रिचर्डस की तारीफों के बीच भारतीय कप्तान विराट कोहली अपने साथियों के साथ आईसीसी विश्व कप -2019 में अपने अभियान का आगाज पांच जून को दक्षिण अफ्रीका के साथ करेंगे। भारत जहां अपना पहला मैच खेलेगा वहीं दक्षिण अफ्रीकी टीम दो मैच हार चुकी है। उसे इंग्लैंड और बांग्लादेश के हाथों हार मिली है।

वेस्टइंडीज की विश्वकप विजेता टीम के अगुआ रहे खतरनाक बल्लेबाज विवियन रिचर्ड्स भारतीय टीम को जीत का सबसे तगड़ा उम्मीदवार मानते हैं। वह कहते हैं कि मुझे भारतीय बल्लेबाजी से हमेशा से प्यार रहा है। विराट को जो आत्मबल हासिल है, वह एक रात में नहीं मिलता। वह फाइटर हैं और किसी और से अधिक अपनी टीम की रक्षा करते हैं।’

दुनिया के सबसे खतरनाक बल्लेबाजों में शुमार भारतीय कप्तान विराट कोहली के नेतृत्व में इंग्लैंड पहुंची टीम इंडिया हर हाल में विश्वकप कब्जाना चाहेगी। आगे बढ़कर अपने शतकों से टीम की अगुआई करने वाले कोहली इंग्लैंड में कई विराट पारी खेल सकते हैं। टीम इंडिया में बतौर आलराउंडर खेल चुके यूपी के पूर्व कप्तान ज्ञानेंद्र पांडेय कहते हैं कि दुनिया की सारी टीमों से तगड़ी बैटिंग लाइनअप भारत की है। इसलिए हर हाल में भारत को विश्वकप जीतना चाहिए।

जीत के ये होंगे नायक

बैटिंग क्रम में सबसे ऊपर खेलने वाले रोहित शर्मा को यूं ही पूरी दुनिया रो’हिट’ शर्मा नहीं कहती। वह अपने बड़े-बड़े शॉटों से टीम इंडिया को यह खिताब दिलाने का माद्दा रखते हैं। वहीं उनके साथ बल्लेबाजी करने उतरने वाले शिखर धवन का बल्ला जब बोलता है तो दुनिया के सारे गेंदबाज अपनी लाइन लेंथ भूल जाते हैं। गब्बर की तर्ज पर धूम-धड़ाके करने वाले शिखर का बल्ला पिछले विश्वकप में भी खूब चला था। इन दो बल्लेबाजों के अलावा कप्तान विराट कोहली इन दिनों दुनिया के शीर्ष बल्लेबाज हैं। उनकी निरतंरता उन्हें दुनिया का सबसे महान खिलाड़ी बनाती है।

इसके अलावा टीम इंडिया में दुनिया का सबसे बेस्ट मैच फिशिनर खेलता है। महेंद्र सिंह धोनी के नाम से पूरी दुनिया में विख्यात यह बल्लेबाज मैच अपने दम पर खत्म करता है और लास्ट गेंद तक पिच पर जमा रहता है। भारत को साल 2011 विश्वकप अंतिम मैच पर छक्के के बल पर जिताने वाला यह बल्लेबाज किसी भी टीम के लिए बड़ा सिरदर्द है। वहीं भारतीय तेज गेंदबाजी को मजबूती देने वाले हार्दिक पांड्या जब बल्लेबाजी करने आते हैं तो विपक्षी टीम में खलबली मच जाती है। जानकारों का कहना है कि धोनी का साथ पाकर पांड्या किसी भी गेंदबाजी क्रम को ध्वस्त कर सकता है।

वहीं यार्करमैन के नाम से मशहूर भारतीय तेज गेंदबाजी के अगुआ जसप्रीत बुमराह का सामना इंग्लैंड की पिचों पर किसी भी बल्लेबाज के लिए आसान नहीं होगा। वहीं स्विंग के बूते दुनिया के सभी बल्लेबाजों को नचाने वाले भुवनेश्वर कुमार की गेंदबाजी के सामने बल्लेबाजी करना किसी भी बैट्समैन के लिए आसान नहीं होगा। वहीं सधी और सटीक लाइन लेंथ और तेज गेंदबाजी के सभी हथियार (यार्कर, बाउंसर, स्विंग, रिवर्स स्विंग और तेजी) के साथ मैदान पर उतरने वाले मोहम्मद शमी, भुवी और बुमराह की जोड़ी को और मजबूती प्रदान करेंगे। इसके अलावा कलाई से गेंद नचाने वाले यूपी के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव टीम इंडिया के लिए छुपे रुस्तम साबित होंगे। वह किसी भी परिस्थिति में विकेट लेने का न केवल प्रयास करते हैं बल्कि विकेट निकाल भी लेते हैं। ऐसे में टीम इंडिया के खिलाफ जीतना किसी भी टीम के लिए आसान नहीं होगा।

तुरुप का इक्का साबित होंगे राहुल

ओपनिंग बल्लेबाजी के विकल्प के रूप में टीम इंडिया में शामिल केएल राहुल को विश्वकप में चौथे नम्बर पर बल्लेबाजी करने के लिए उतारा जा सकता है। टीम इंडिया के खतरनाक बल्लेबाजों में शामिल राहुल टीम इंडिया के लिए तुरुप का इक्का साबित हो सकते हैं। बेहतरीन शॉट और तेज बल्लेबाजी के लिए मशहूर यह बैट्समैन अपने बूते टीम को जिताने का माद्दा रखता है।

छोटा कद, लंबे शॉट

भारतीय क्रिकेट टीम में आज प्रतिभाओं का अभाव नहीं है। एक-एक स्थान के लिए कई-कई विकल्प उपलब्ध हैं। ऐसे में किसी भी नए खिलाड़ी के लिए टीम में जगह बनाना बहुत मुश्किल है। मिडिल आर्डर में धमाकेदार क्रिकेटर युवराज की जगह वनडे में केदार जाधव उनकी जगह ले सकते हैं। उसके गजब के टेंपरामेंट के साथ अपनी प्रतिभा की झलक दिखा दी। एक दशक से घरेलू क्रिकेट में छाए इस छोटी कद-काठी ने अपने ताकतवर और लंबे शॉट्स से सभी को हैरत में डाल दिया। केदार पुणे के हैं और प्रथम श्रेणी क्रिकेट में महाराष्ट्र की प्रतिनिधित्व करते हैं। ऐसे में विराट का साथ देने के लिए केदार बहुत मुफीद बल्लेबाज साबित होंगे।

ताबड़तोड़ विकेट लेने के मूड में हैं चहल

इंग्लैंड में हो रहे आईसीसी क्रिकेट विश्व कप में इस बात पर काफी चर्चा होती है कि वहां की विकेट कैसी होगी, विश्व कप शुरू होने के बाद पिछले कुछ मैचों में देखा गया है कि विकेट ज्यादा टर्न नहीं हो रही है। इस बीच, भारतीय लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल ने दो टूक लहजे में कहा है कि विकेट चाहे कैसी भी हो, इससे ज्यादा उन्हें खुद की क्षमता पर भरोसा है। उन्होंने कहा कि विश्व कप से पहले इंग्लैंड-पाकिस्तान सीरीज के दौरान वहां पर स्पिनरों के लिए थोड़ी सी टर्न थी। लेकिन अब सब कुछ वहां की परिस्थितियों पर निर्भर करता है। बकौल चहल, ‘मैं सपाट विकेट पर गेंदबाजी करना पसंद करता हूं, जिसमें थोड़ी उछाल होती है। मैं ऐसी विकेट में विश्वास नहीं करता, जिससे थोड़ी मदद मिलने की संभावना हो।’ कुल मिलाकर भारतीय टीम इस विश्वकप में लम्बा सफर तय करके विजेता ट्राफी भारत ला सकती है।