प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक खुद कई दिनों से है गायब कैसे होगी बेहतर पढ़ाई

 इटियाथोक के प्राइमरी स्कूल मध्यनगर में अव्यवस्थाओ की है भरमार
नरेंद्र लाल गुप्ता शक्तिमान सोनकर
गोंडा।शिक्षा क्षेत्र इटियाथोक अंतर्गत परिषदीय विद्यालयों में अनेक जगह तैनात शिक्षकों के मनमानी और लापरवाही का खामियाजा स्कूली नौनिहालों को भुगतना पड़ रहा है। सरकार नौनिहालो के पढ़ाई लिखाई पर लाखो करोङो रुपये पानी की तरह बहा रही है बावजूद इसके कुछ लोगो के लापरवाही से यह मिशन फेल नजर आ रहा है। शिक्षण कार्य के बदले वेतन के रूप में हर महीने करीब आधा लाख की रकम लेने वाले तमाम शिक्षक स्कूलों से अक्सर गायब रहते हैं। अपने फर्ज को भी वे भूल चुके हैं तथा उनको किसी का कोई भय नही रह गया है। विभागीय जानकारों की मानें तो इसके पीछे कहीं ना कहीं ब्लॉक और जिला स्तरीय अधिकारियों का आशीर्वाद और साथ जुड़ा रहता है। इस वजह इन लापरवाह शिक्षको के हौसले बुलंद हैं। 
ताजा मामला इटियाथोक ब्लॉक क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय मध्यनगर द्वितीय से जुड़ा हुआ है। हमारे प्रतिनिधि ने 19 अगस्त की सुबह लगभग 10 बजे उक्त विद्यालय का जायजा लिया तो यहां तैनात प्रभारी प्रधानाध्यापक नीरज कुमार विगत कई दिनों से उपस्थित पंजिका और मौके से नदारद मिले। पंजिका में यह 4 दिन से अनुपस्थित मिले तो 4 दिन का सीएल अवैध तरीके से दर्ज मिला। ग्रामीणों ने बताया कि स्कूल में अनेक अव्यवस्थाएं मौजूद है लेकिन कोई पुरसाहाल नहीं है। यहां तैनात सहायक अध्यापक नंद कुमार ने कहा कि मौके पर 4 में से 3 शिक्षक मौजूद हैं।
उन्होंने बताया कि यहां नामांकित 123 के सापेक्ष 72 बच्चे आज मौजूद हैं। विद्यालय में बाउंड्री नहीं है। परिसर और स्कूल में चारों तरफ झाड़, घास फूस और गंदगी की भरमार है। परिसर में कुत्ते और अन्य जानवर आकर दिन रात गंदगी करते हैं। भवन की रंगाई पुताई तक नहीं हुई है। यहाँ पर सभी शौचालय पूरी तरह से ध्वस्त और निष्प्रयोज्य है। इसके बगल में इसका महीनो से खुदा हुवा भारी गड्ढा खुला हुआ पड़ा है, जिसमे गिरकर नौनिहाल कभी भी चोटिल हो सकते है। यहां पर बच्चे शौच के लिए खुले में जाने को मजबूर हैं, जिनके साथ बाहर कभी भी कोई अप्रिय घटना हो सकती है। उक्त विद्यालय में अनेक कमियां और अव्यवस्थाएं मौजूद हैं, बावजूद इसके जिम्मेदार अधिकारी संबंधित लोगो के खिलाफ कोई कार्यवाही करने से न जाने क्यों कतराते हैं।
क्या बोले अधिकारी
इस बारे में गोंडा बीएसए मनीराम सिंह से बात करने की कोशिश की गई लेकिन उन्होंने फोन रिसीब करना मुनासिब नही समझा। तत्पश्चात दूरभाष पर इटियाथोक खंड शिक्षा अधिकारी ओम प्रकाश पाल से वार्ता हुई तो उन्होंने कहा कि अगर शिक्षक और विद्द्यालय के संबंध में लगाए गए आरोप सत्य है तो उनके विरुद्ध कार्यवाही के लिए बीएसए को अवश्य लिखा जाएगा।