पुलिस की लापरवाही से दो की हत्या, कारण बना स्मेक/गाजा

लाल बाबू गौतम

देवरिया। सदर कोतवाली थाना क्षेत्र के सकरापार गांव के समीप एचपी गैस गोदाम के बगल में दो शव मिलने से पूरे क्षेत्र मे खलबली मच गई। वहीं एक ही गांव में दो शव मिलने की जब सूचना पुलिस को मिली तो देखते ही देखते पूरा क्षेत्र छावनी में बदल गया।
सदर कोतवाली क्षेत्र के सकरापार निवासी पिन्टू पटेल 25 वर्ष पुत्र उमा पटेल का ईलाज चल रहा था, जो दिमाग से डिस्टर्व था। घर वाले उसको लेकर काफी परेशान थे। वह घर वालों से बात-बात पर उलझ जाता था। शाम को भी घर पर उलझ कर मार-पीट कर घर से चला गया।

उसकी मां ने बताया कि वह मन्दिर पर रहता था जो शाम को घर से झगड़ा कर वहीं चला गया। मन्दिर पर गांव के ही पुजारी मोती चन्द 60 वर्ष पुत्र रामकिशन यादव रहते थे, जहां उनकी भी हत्या कर दी गई।
मृतक पिन्टू पटेल की मां का कहना है कि पिन्टू की हत्या गांव के ही कुछ यादव व पुजारी के दामाद ने किया है। मौके पर पहुंची पुलिस ने पुजारी के दामाद को हिरासत मे ले कर कोतवाली ले गई और शव को हिरासत मे लेकर अन्तः परिक्षण के लिए भेज दिया गया।
मौके पर पहुंचे पुलिस अधीक्षक एन कोलांची, सीओ,कोतवाल विजय नरायण मौके पर जांच मे जुट गये।

पुलिस कप्तान एन कोलांची ने कहा कि बारह घंटे के अन्दर इस घटना का खुलासा कर देंगे।
वही ग्राम प्रधान वीरेन्द्र यादव ने पुलिस अधिक्षक एएन कोलांची से बताया कि सकरापार मे गांजा व स्मैक, कच्ची शराब बड़ी मात्रा मे बिकती है, जिसकी वजह से आधे से ज्यादे लोग स्मैक के शिकार है और दिमाग से डिस्टर्व है। इसकी शिकायत दर्जनों बार पुलिस अधिकारियों से करने के बाद भी आज तक पुलिस कोई कार्यवाही नही की। वह कहते हैं कि पुलिस की लापरवाही के कारण आज इतनी बड़ी घटना हुई है।

वहीं पुलिस अधिक्षक ने कच्ची शराब के अडडे पर हुए हत्या को गम्भीरता से देखते हुए निरीक्षण किया और जल्द ही उस पर भी कार्यवाही करने की बात कही।