न्यूक्लियर पॉलिसी को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बड़ा बयान

नया लुक डेस्क

नई दिल्ली। न्यूक्लियर पॉलिसी को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने बड़ा बयान दिया है. केंद्रीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने पोखरण में कहा कि अभी तक हमारी न्यूक्लियर को लेकर पॉलिसी ”नो फर्स्ट यूज” की रही है लेकिन भविष्य में क्या होता है यह हालात पर निर्भर करेगा.

राजनाथ सिंह ने कहा,”यह एक संयोग है कि आज मैं जैसलमेर में इंटरनेशनल आर्मी स्काउट कॉम्पीटिशन के लिए आया था और आज ही अटल बिहारी वाजपेयी की पहली पुण्यतिथि है. इसलिए, मुझे लगा कि मुझे पोखरण की धरती पर ही उन्हें श्रद्धांजलि देनी चाहिए.” बता दें पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की आज पहली पुण्यतिथि है. अटल बिहारी वाजपेयी जब प्रधानमंत्री थे तब मई 1998 में उन्होंने पोखरण में परमाणु परीक्षण किया गया था.

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का बयान ऐसे वक्त में आया है जब जम्मू-कश्मीर से आर्टिकल 370 का एक खंड छोड़ सभी खंडों को खत्म कर देने के केंद्र सरकार के फैसले से पाकिस्तान तिलमिलाया हुआ है. लगातार इमरान खान समेत कई नेता गीदड़भभकी दे रहे हैं. पाकिस्तान भारत को युद्ध की धमकी दे रहा है. ऐसे में राजनाथ सिंह का बयान साफ है कि अगर किसी भी तरह की दुस्साहस पाकिस्तान की तरफ से किया जाएगा तो भारत चुप नहीं बैठेगा.

राजनाथ सिंह ने ट्वीट किया कि पोखरण वह क्षेत्र है जिसने भारत को परमाणु शक्ति बनाने के लिए अटलजी के दृढ़ संकल्प को देखा और अभी तक नो फर्स्ट यूज के सिद्धांत के प्रति प्रतिबद्ध है। भारत ने इस सिद्धांत का कड़ाई से पालन किया है। भविष्य में क्या होता है यह परिस्थितियों पर निर्भर करता है।

राजनाथ सिंह ने अंतरार्ष्ट्रीय आर्मी स्काउट मास्टर प्रतियोगिता में शामिल देशों का आह्वान किया कि सभी देश वैश्विक चुनौतियों के साथ मिलकर लड़ेंगे।

उन्होंने रूस की चर्चा करते हुए कहा कि भारत के रूस से पहले से लम्बे एवं गहरे रिश्ते रहे है। मध्य एशिया में कजाकिस्तान आदि के साथ भी व्यापारिक एवं सांस्कृतिक रिश्ते है। सूडान में एक दशक से ज्यादा समय से शांति सेना के जरिए भारत अमूल्य योगदान दे रहा है।

इस अवसर पर थल सेना अध्यक्ष बिपिन रावत तथा अन्य कई अधिकारी मौजूद थे। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धाजंलि भी अर्पित की।